उत्तराखंडखाना-खजाना

द 3 पाइन्स कैफ़े ने अपने 30% एनिमल-बेस्ड खाद्य पदार्थां को प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थों से बदलने की प्रतिबद्धता व्यक्त

 

देहरादून, 27 जनवरी। देहरादून का द 3 पाइन्स कैफ़े उत्तराखंड में ऐसे रेस्टोरेंट की बढ़ती संख्या में शामिल हो रहा है, जो अपने मेनू में ज्यादा से ज्यादा प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थों को शामिल कर रहे हैं।

देहरादून (27 जनवरी 2021) – देहरादून में स्थित कैफ़े द 3 पाइन्स कैफ़े ने 2022 तक अपने मेनू में शामिल सभी पशु-आधारित खाद्य पदार्थों में से 30% को प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थों के साथ बदलने को लेकर अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की है, इसके तहत हर साल 15,000 से अधिक खाद्य पदार्थों को बदला जाएगा। ह्यूमेन सोसाइटी इंटरनेशनल / इंडिया इस प्रतिबद्धता की सराहना करता है और इन मेनू परिवर्तनों को विकसित करने और कार्यान्वित करने के लिए द 3 पाइंस कैफे के साथ काम करेगा और प्लांट-बेस्ड प्रोटीन और डेयरी विकल्पों के साथ तैयार किए गए अधिक स्वादिष्ट और रोमांचक प्रसाद को टेबल पर लाएगा।

इस प्रतिबद्धता के साथ, द ड्रीम हाउस कैफ़े, माया ए कल्चर और 70 पर्सेंट कैफ़े एंड रेस्ट्रो के बाद, द 3 पाइन्स कैफ़े, प्लांट-बेस्ड ‌खाद्य पदार्थों का समर्थन करने वाला देहरादून का चौथा रेस्टोरेंट बन गया है। ये रेस्टोरेंट और कैफ़े जनस्वास्थ्य को बढ़ावा देने, पर्यावरण की रक्षा करने और जानवरों के स्वास्थ्य को और बेहतर बनाने के लिए अधिक टिकाऊ सामग्रियों और प्रथाओं को अपनाने की दिशा में हो रहे वैश्विक बदलाव में शामिल हो रहे हैं।

द 3 पाइन्स कैफ़े की मालिक दिव्या अग्रवाल ने कहा, “दुनिया भर में इंटरनेट की शुरुआत और सामान्य फ़ैक्टरी फार्मिंग प्रथाओं पर जानकारी की उपलब्धता के साथ, हम क्रूरता के बारे में अधिक जागरूक हो गए हैं जो तरह-तरह के व्यवसायों के लिए, विशेष रूप से पशु उत्पादों के लिए, जानवरों के साथ की जाती है। हम सभी जानते हैं कि किसी जानवर को मारना बिल्कुल भी न्यायसंगत नहीं है, लेकिन हम में से बहुत कम लोगों को अभी तक यह अहसास है कि डेयरी और अंडा उद्योगों में भी जानवरों को प्रताड़ित किया जाता है।”

एफएओ के अनुसार, ग्रीनहाउस गैस के कुल उत्सर्जन का अनुमानतः 14.5%, फ़ैक्टरी फार्म में मांस, अंडे और डेयरी उत्पादों के उत्पादन के लिए पशुओं के गहन पालन-पोषण से पैदा होता है, जो कि पूरे ट्रांसपोर्ट सेक्टर द्वारा उत्सर्जित ग्रीन हाउस गैस के बराबर है। अग्रवाल ने आगे कहा, “दूध के लिए पाले गए जानवरों को ज्यादा से ज्यादा दूध उत्पादन के लिए अत्यधिक क्रूरता का सामना करना पड़ता है। यह जागरूकता अब फैल रही है और अब अधिक लोग प्लांट-बेस्ड जीवन शैली को अपनाने के महत्व को महसूस कर रहे हैं। इन सभी कारणों को ध्यान में रखते हुए, सस्टेनेबल फूड की मांग में वृद्धि के साथ, द 3 पाइन्स कैफ़े ने धीरे-धीरे सभी पशु उत्पादों में कटौती करने, साथ ही अपने मेनू में प्लांट बेस्ड विकल्पों को बढ़ावा देने का फैसला किया है, इसके साथ ही हम अलग-अलग माध्यमों से अपने ग्राहकों के बीच प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थों को अपनाने के प्रति जागरूकता भी ला रहे हैं।”

अधिक से अधिक प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थों को खाने का फैसला करके, हम पर्यावरण और जानवरों पर पड़ने वाले हमारे वर्तमान उपभोग की आदतों के बोझ को कम कर सकते हैं।

एचएसआई / इंडिया के प्रबंध निदेशक आलोकपर्णा सेनगुप्ता ने कहा, “हम द 3 पाइन्स कैफ़े की प्रतिबद्धता को लेकर बेहद प्रसन्न हैं और इन परिवर्तनों को लागू करने में उनकी मदद करने के लिए तत्पर हैं। हमारी भोजन और उपभोग की आदतें बदल रही हैं, और जागरूक खाद्य व्यवसाय स्वादिष्ट, टिकाऊ और प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थों की मांग को पूरा करते हुए अधिक मानवीय भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं।”

पूरी दुनिया में मौजूद एचएसआई ने खाद्य व्यवसायिओं, स्कूलों, कॉलेजों और अन्य संस्थानों के साथ साझेदारी की है कि वे प्लेट्स में ज्यादा से ज्यादा प्लांट-बेस्ड खाद्य पदार्थ देंगे। शानदार प्लांट-बेस्ड मेनू को डिज़ाइन करने, प्लांट-बेस्ड भोजन को तैयार करने का प्रशिक्षण देने और अन्य प्रमोशनल गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए इन संस्थाओं के साथ काम करते हुए, एचएसआई अधिक मानवीय और टिकाऊ भोजन का मार्ग प्रशस्त कर रहा है।

 

Related Articles

Close