उत्तराखंडराजनीति

मुकदमा दर्ज नहीं और काटी 5 दिन की जेल, कानून व्यवस्था का केंद्रीकरण, कनक धनाई ने विधानसभा अध्यक्ष पर जड़े आरोप

ऋषिकेश 4 फरवरी। उत्तराखंड जनएकता पार्टी के नेता कनक धनाई ने विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल पर कानून व्यवस्था का केंद्रीकरण कर आम जनता का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है।
दरअसल, उत्तराखंड जनएकता पार्टी के नेता कनक धनाई ने बीते 28 जनवरी को विधानसभा अध्यक्ष से 14 सवाल पूछते हुए ग्रामीणों के साथ उनके कार्यालय का घेराव करने का प्रयास किया था। जिसके चलते कनक धनाई और उनके एक साथी को 5 दिन कारावास में रहा गया।
बृहस्पतिवार को त्रिवेणीघाट स्थित एक होटल में प्रेसवार्ता कर कनक धनाई ने विधानसभा अध्यक्ष पर अपने पद और कानून व्यवस्था का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि 14 वर्षों से ऋषिकेश विधानसभा सीट पर बैठे जनप्रतिनिधि का यह दायित्व बनता है कि वह जनता के सवालों का जवाब दें। विधानसभा अध्यक्ष से पूछे गए सवालों के जवाब के लिए उनको जनता के सामने आना चाहिए था। उन्होंने बताया कि 14 सवालों के जवाब के लिए विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय में जाने के आरोप में उन्हें गिरफ्तार किया गया था। 5 दिन कारावास में रहने के बाद बाहर आने पर पता चला कि उनके खिलाफ कोई मुकदमा ही दर्ज नहीं है। जिसको लेकर उन्होंने शासन-प्रशासन पर आमजन की आवाज को दबाकर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि इसके लिए वह मानव अधिकार आयोग सहित उच्च न्यायालय का दरवाजा भी खट खटाएंगे। मौके पर पार्टी के जिला अध्यक्ष सोम अरोड़ा, संदीप वाष्नेय, गुरमुख सिंह, विकास खंडूरी, सचिन चौहान, विकास शर्मा उपस्थित रहे।

Related Articles

Close