उत्तराखंड

उत्तराखण्ड की ऊंची पहाड़ियों ने ओढ़ी बर्फ की चादर बर्फबारी से बढ़ी ठंड

देहरादून। उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बुधवार शाम से हो रही बर्फबारी गुरुवार तड़के भी जारी रही। मसूरी, धनोल्टी और औली समेत चकराता की खूबसूरत वादियों में भी बर्फ की फुहारें पड़ी। वहीं, मैदानी इलाकों में बारिश होने से ठंड में और इजाफा हो गया है।
पहाड़ों की रानी मसूरी और धनोल्टी में बुधवार सुबह से ही मौसम खराब है। गुरुवार सुबह भी मसूरी और धनोल्टी में हल्की बारिश और बर्फबारी हुई। रुक-रुक कर हो रही बारिश के बीच बर्फ की हल्की फुहारें पड़ने से मौसम खुशनुमा हो गया। हालांकि बर्फ गिरने से क्षेत्र में शीतलहर का प्रकोप  बढ़ गया है। इससे मसूरी घूमने पहुंचे सैलानियों और क्षेत्र के पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों में खुशी का माहौल है।
मसूरी में 28 दिसंबर को सीजन की पहली बर्फबारी हुई थी। मसूरी के अलावा धनोल्टी और बुरांशखंडा क्षेत्र में हल्की बर्फ पड़ी है। धनोल्टी और बुरांशखंडा में बर्फबारी होने से पर्यटकों और स्थानीय लोगों के चेहरे खिल उठे  हैं।
औली में बुधवार शाम को बर्फबारी शुरू हो गई थी। तड़के तक औली पूरी तरह से बर्फ से ढकी हुई थी। सुबह हालांकि मौसम खुला, लेकिन करीब 11 बजे फिर से हल्की बारिश और बर्फबारी होने लगी।
बुधवार शाम को शुरू हुई बर्फबारी गुरुवार सुबह भी जारी रही। बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री समेत हेमकुंड साहिब, भी बर्फ से ढक गए हैं। गंगा और यमुना घाटी के ऊंचाई वाले इलाकों ने फिर बर्फ की सफेद चादर ओढ़ ली है। उधर, केदारनाथ धाम समेत द्वितीय केदार मद्महेश्वर, तृतीय केदार तुंगनाथ और चंद्रशिला में हल्की बर्फबारी हुई।
बुधवार देर रात मुनस्यारी के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हल्की बर्फबारी हुई। उच्च हिमालयी क्षेत्र में हल्के बादल हैं, पिथौरागढ़ जिले के अन्य हिस्सों में आसमान साफ है। लेकिन ऊंची चोटियों पर बर्फबारी जारी है।

Related Articles

Close