नई दिल्लीराष्ट्रीय

सिनियर सिटिजन के पक्ष में एक अच्छा कदम उठाने जा रही मोदी सरकार, फिर नहीं रहना पड़ेगा बुजुर्गों को किसी पर आश्रित

मोदी सरकार का एक एतिहासिक फैसला बुजुर्गों के हित में

 

दिल्ली: मोदी सरकार अब बुजुर्गों को भी आत्मनिर्भर बनाने जा रही है. राज्यसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले  ने कहा है कि अनाथालय में रह रहे बुजुर्गों के लिए मोदी सरकार एक बड़ा फैसला करने जा रही है. इस बात की जानकरी केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले  ने राज्यसभा में दी है।

👉  *अब बुजुर्ग बनेंगे आत्मनिर्भर*

मोदी सरकार किस तरह से अनाथालय में रह रहे बुजुर्गों के दिन सुधारेगी ये तो अभी खुलासा नहीं हुआ है लेकिन ये माना जा रहा है कि जैसे जेल में रहने वाले कैदी काम करके पैसे कमाते हैं, ऐसी ही कोई योजना मोदी सरकार अनाथ बुजुर्गों के लिए ला सकती है।

इस योजना के तहत बुजुर्ग आराम से पैकिंग, कटिंग, डिजाइनिंग जैसा कोई काम कर सकेंगे और इसके एवज में उन्हें इतना पैसा मिलेगा कि उनका गुजारा आराम से हो जाएगा.

  👉  *30 हजार से ज्यादा बुजुर्गों को मिलेगा फायदा*

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक देश भर में 600 से अधिक बुजुर्ग आश्रय गृह  हैं जिनमें 30,000 से ज्यादा बुजुर्ग लोग जिंदगी का आखिरी दौर काट रहे हैं. वैसे ओल्ड इज होम रहने-खाने की सुविधा मिलती है लेकिन एक तरह से बुजुर्गों को दूसरों पर मोहताज रहना पड़ता है। इन्हीं बुजुर्गों के आत्म सम्मान के लिए मोदी सरकार बड़ा फैसला करने जा रही है।

Related Articles

Close