धर्म-कर्म

29 मार्च को होली पर इस वर्ष बन रहा है ध्रुव नाम का विशेष योग

कुंभ राशि कन्या राशि के लोग रहे विशेष सावधान

   👉 *जबकि वृष सिंह और मकर राशि का होगा भाग्योदय*

उत्तराखंड ज्योतिष रत्न आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल बताते हैं कि
इस साल होली का त्योहार 29 मार्च को मनाया जाएगा।
हिंदू धर्म में होली के त्योहार का विशेष महत्व माना गया है। होली यानी रंगोंहोली का त्योहार मनाने के लिए पूजा का शुभ मुहूर्त, इस दिन बनने वाला योग और इसके पीछे की पौराणिक कथा को जानना भी जरूरी होता है।

होली का शुभ मुहूर्त :

पूर्णिमा तिथि की शुरुआत 28 मार्च को 03: 32 पर होगी

पूर्णिमा तिथि का अंत 29 मार्च को 00:17 पर होगा

होलिका दहन मुहूर्त: 06: 40 से 08: 58 तक रहेगा

होली पर बन रहा है ध्रुव नाम का विशेष योग:

ये तो हम सब जानते हैं कि होली हर साल फाल्गुन महीने के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को मनाई जाती है। वहीं इस साल होली पर ध्रुव नाम का विशेष योग बन रहा है, दरअसल ये योग तब बनता है जब चंद्रमा कन्या राशि में गोचर कर रहा हो जबकि मकर राशि में शनि और गुरु विराजमान हों वहीं शुक्र और सूर्य मीन राशि में हों मंगल और राहु वृषभ राशि, बुध कुंभ राशि और केतु वृश्चिक राशि में विराजमान रहें।

होली के त्यौहार का पौराणिक महत्व

श्रीमद्भागवत रत्न आचार्य चंडी प्रसाद बताते हैं कि
होलिका दहन के मौके पर ये कथा पढ़ी जाती है. दरअसल, हिरण्‍यकश्‍यप काफी बलशाली असुर था। इसी वजह से उसने किसी और भगवान की पूजा ना करने का आदेश दिया और प्रजा से कहा कि उसे ही भगवान माना जाये। लेकिन उसका बेटा प्रह्लााद नारायण का परम भक्‍त था वो हर समय श्री हर‍ि-श्री हरि का नाम जपता रहता था जिससे हिरण्‍यकश्‍यप अपने बेटे से नाराज रहने लगा।

हिरण्‍यकश्‍यप ने फिर अपनी बहन होलिका से मदद मांगी और होलिका से प्रह्लााद को अग्नि पर लेकर बैठने को कहा जिससे प्रह्लााद उसमें भस्म हो जाए, दरअसल ब्रह्मा जी द्वारा प्राप्त वरदान के चलते होलिका को अग्नि छू भी नहीं सकती थी इसलिए होलिका निर्भय होकर अग्नि पर प्रह्लााद को गोद में लेकर बैठ गई. हालांकि होलिका उसी अग्नि में जलकर भस्म हो गई लेकिन प्रह्लााद को कुछ नहीं हुआ. तब से अधर्म पर धर्म की विजय सत्य पर असत्य की विजय के रूप में होली के त्यौहार को मनाया जाता है
ज्योतिष में अंतरराष्ट्रीय हस्ताक्षर डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल बताते हैं कि अपनी राशि के अनुसार होली के रंग चुनने से शुभ फल की प्राप्ति होती है इसलिए सभी लोग निम्न वत राशि अनुसार रंग चुनें

मेष गुलाबी और सिंदूरी रंग वृष पीला दूधिया रंग मिथुन राशि हरा और नीला रंग कर्क राशि लाल और पीला रंग सिंह राशि लाल और गुलाबी रंग कन्या राशि लाल हरा पीला रंग तुला राशि गुलाबी रंग वृश्चिक राशि लाल और पीला रंग धनु राशि पीला और केसरिया रंग मकर राशि काला लाल नीला रंग कुंभ राशि काला और नीला रंग मीन राशि वाले जातक सभी रंगों से होली खेल सकते हैं।

Related Articles

Close