उत्तराखंडस्वास्थ्य

पोस्टमार्टम हाउस के डीप फ्रीजर खराब,सड रहे शव,संक्रामक रोग का खतरा

देहरादून। राजकीय जिला अस्पताल के कोरोनेशन परिसर में बने पोस्टमार्टम हाउस के दोनों डीप फ्रीजर खराब होने के कारण वहां रखे जाने वाले शव सड़ रहे हैं। इससे अस्पताल के साथ आसपास रहने वाले स्वास्थ्य कर्मियों और अन्य कॉलोनियों में लोगों को भयंकर मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। इससे उनमें कोरोना के साथ ही अन्य संक्रामक बीमारियों का भी भय बना हुआ है।
दरअसल, दुर्घटना में तीन दिन पहले जिला कोरोनेशन अस्पताल में मरने वाले दो अज्ञात और प्राकृतिक बीमारी से मरने वाले तीन शवों को पोस्टमार्टम हाउस में रखा गया था। अज्ञात शवों के मामले में नियमानुसार तीन दिन तक शिनाख्त के लिए शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाता है। इसलिए दोनों शव पिछले तीन दिन से पोस्टमार्टम हाउस में रखे हुए हैं।इसी तरह तीन अन्य शवों का पोस्टमार्टम न होने की वजह से शुक्रवार दोपहर बाद इनको भी डीप फ्रीजर में रखा गया था। शवों से सड़ांध आने से अस्पताल के डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों के साथ ही आसपास की कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को कुछ संदेह हुआ। बात अस्पताल के अधिकारियों तक पहुंची तो उन्होंने छानबीन की। पता लगा कि पोस्टमार्टम हाउस के दोनों डीप फ्रीजर खराब होने के कारण कूलिंग नहीं हो रही है। भयंकर गर्मी में डीप फ्रीजर खराब होने से शवों से सड़ांध आ रही है। स्वास्थ्य विभाग के और अन्य जिम्मेदार अधिकारियों ने अब तक इन डीप फ्रीजर को ठीक करने की जहमत तक नहीं उठाई है। जिससे शवों की बेकद्री हो रही है।
इस संबंध में संपर्क करने पर जिला कोरोनेशन अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मनोज उप्रेती ने बताया कि स्ट्रेचर लगने की वजह से दोनों डीप फ्रीजर के दरवाजे टूट चुके हैं। इससे डीप फ्रीजर में कूलिंग नहीं हो रही है। वहीं गर्मी इतनी है कि ज्यादा समय तक शवों को रखने में दुर्गंध आना लाजिमी है। तीन शवों का तो शुक्रवार को पोस्टमार्टम हो गया है।
उसके बाद उनका अंतिम संस्कार भी किया जा चुका है। जबकि दो अज्ञात शवों का पुलिस शनिवार को नियमानुसार अंतिम संस्कार कराएगी। उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम हाउस क्योंकि मुख्य चिकित्सा अधिकारी के अधीन संचालित होता है। इसे देखते हुए इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय को अवगत कराया जा चुका है। उधर, जब मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनूप कुमार डिमरी से इस बारे में संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में नहीं है। अगर ऐसी कोई बात है तो इस पर तत्काल दिखवा कर मामले का समाधान किया जाएगा।

Related Articles

Close