उत्तराखंडराशिफल

लड़का और लड़की में प्रेम संबंध अथवा शादी के टूटने के कारण, विशेष रूप से शनि मंगल सूर्य और राहु होते हैं इसके लिए जिम्मेदार : आचार्य घिल्डियाल

समय पर करा देना चाहिए इनका ज्योतिषीय उपचार

सुप्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य चंडी प्रसाद घिल्डियाल के अनुसार आज के समय में लड़का-लड़की में अफेयर होना आम बात है। कुछ लोगों का अफेयर शादी में बदल जाते हैं, तो कुछ लोगों के रिश्ते बीच में ही खत्म हो जाते हैं। प्रेम-संबंध बीच में खत्म होने के बाद आरोप-प्रत्यारोप भी लगाए जाते हैं तो कुछ लोग समय की मांग को देखते हुए शांत रहते हैं

उत्तराखंड ज्योतिष रत्न आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल बताते हैं किब्रेकअप होना पूर्ण रूप से ग्रहों की दशा पर भी निर्भर करता है। अब यह ब्रेकअप प्रेम संबंधों में भी हो सकता है और शादी होने के बाद पति-पत्नी के संबंधों में भी तलाक आज आम बात हो रही है ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ग्रहों के उतार चढ़ाव के कारण रिश्ते जुड़ते हैं और टूटते भी हैं।
अपनी सटीक भविष्यवाणियों के लिए और ज्योतिषीय उपचार के लिए अंतरराष्ट्रीय पहचान बना चुके आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल बताते हैं कि
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ब्रेकअप का कारण मुख्य रूप से सूर्य , मंगल और शनि होते हैं। माना जाता है कि इन तीनों ग्रहों के कारण लड़का और लड़की में ब्रेकअप होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, अगर इन ग्रहों में से कोई एक ग्रह उच्च राशि में होकर पंचम या सप्तम भाव को देखे तो जीवन में ब्रेकअप का योग बन जाता है पहले तो प्रेम संबंध ही टूट जाता है अन्यथा शादी होने के बाद शादी टूट जाती है और जब तक इनका उपचार नहीं होता टूटती रहती है

 

आइये जानते हैं ब्रेकअप के ज्योतिषीय कारण…

प्रेम संबंधों के टूटने में मुख्य रूप से कारण सूर्य, मंगल और शनि ग्रह को माना गया है। परंतु शुक्र और राहु और लड़की की कुंडली में बृहस्पति भी इसके लिए काफी हद तक जिम्मेदार होते हैं
इन ग्रहों में से कोई एक ग्रह अगर उच्च राशि में होकर पंचम या सप्तम भाव को देखे तो जीवन में ब्रेक अप का योग बन जाता है।
अगर प्रेमी या प्रेमिका की कुंडली में शनि प्रभाव दिखा रहा है तो संबंधित व्यक्ति का स्वभाव उग्र हो सकता है जिसका असर प्रेम संबंधों पर भी पड़ता है।
अगर कुंडली में सूर्य का प्रभाव है तो ऐसे रिश्तों में व्यक्ति समझौता नहीं कर पाता और इसलिए यह संबंध भी ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाता।
अगर कुंडली में राहु प्रभाव दे रहा है तो प्रेम संबंधों पर धोखा मिलने की संभावना बनी रहती है।
जिस पर मंगल का असर है तो वह मनमानी करने लगता है, जिस कारण रिश्ता ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाता है।
तीनों ग्रह सूर्य, मंगल और शनि में से कोई भी एक ग्रह कुंडली के पांचवें या सातवें घर में अपनी ही राशि में हो तो भी प्रेम संबंधों में खटास आ जाता है और बाद में रिश्ता टूट जाता है। मंत्रों की ध्वनि को यंत्रों में परिवर्तित कर जटिल समस्याओं का समाधान करने के लिए प्रसिद्ध है आचार्य घिल्डियाल का कहना है कि लोग शादी पर लाखों रुपए खर्च कर देते हैं परंतु उससे पहले लड़का और लड़की की कुंडली का ज्योतिषीय विश्लेषण और ग्रहों का उपचार करना भूल जाते हैं जिससे बहुत बड़ी कीमत जीवन में चुकानी पड़ती है इसका एक ही उपाय है कि इन ग्रहों के
समाधान के लिए
कुंडली विश्लेषण करवाए।

Related Articles

Close