उत्तराखंडपर्यावरण

*युवा पीढ़ी को भी अपनी जड़ों से जोड़ता है हरेला पर्व डॉ. विजय धस्माना*

डोईवाला, 17 जुलाई। स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय (एसआरएचयू) में उत्तराखंड लोक पर्व हरेला के उपलक्ष्य पर ‘गो ग्रीन कैंपस’ अभियान चलाया गया। इस अवसर पर जामुन, लीची, आंवला, पीपल, जामुन, हल्दु, अमल्तास, लैगस्ट्रोमिनिया, गुलमोहर, आदि के करीब 250 से ज्यादा पौधों का रोपण किया।

शनिवार को विश्वविद्यालय प्रांगण में चलाए गए पौधारोपण कार्यक्रम का शुभारंभ कुलपति डॉ.विजय धस्माना ने किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता को लेकर विश्वविद्यालय का विजन साफ है।
कुलपति डॉ. विजय धस्माना ने कहा कि लोकपर्व हरेला प्रकृति पूजन व पर्यावरण संरक्षण का प्रतीक है। यदि पर्यावरण सुरक्षित रहेगा तो ही मानव जाति का अस्तित्व भी सुरक्षिकुलपति डॉ.विजय धस्माना ने कहा कि हरेला पर्व युवा पीढ़ी को भी अपनी जड़ों से जोड़ता है। आज का युवा जिस तरह से पुराने त्योहारों को भूलता चला जा रहा है, ऐसे में हरेला पर्व आज की युवा पीढ़ी को अपनी जड़ों से जोड़ने का काम भी कर रहा है। अगर समय-समय पर ऐसे पर्व मनाते जाएं तो युवा भी अपनी संस्कृति व पर्वों के महत्व को समझ पाएगी।

कुलपति डॉ.विजय धस्माना ने विश्वविद्यालय परिवार के सभी सदस्यों से आह्वान किया कि पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता को मूल कर्तव्य समझकर दूसरों को भी इस संबंध में जागरुक करें। इस अवसर पर एस्टेट ऑफिसर अमरेन्द्र कुमार, विदिप्त धस्माना सहित आदि उपस्थित रहे

Related Articles

Close