आत्महत्याउत्तराखंड

उत्तराखंड का दुर्भाग्य : आर्थिक स्थिति खराब होने के चलते नही दे पाई छात्रा फीस,लगाई फांसी

काशीपुर। प्रभु विहार कॉलोनी में बीटेक की एक छात्रा ने देर रात घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुबह जैसे ही छात्रा की मौत का पता चला तो घर में कोहराम मच गया। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव का पंचनामा भरकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। पुलिस ने निशा के मोबाइल और डायरी को भी अपने कब्जे में ले लिया है। साथ ही परिजनों से भी पूछताछ की। बताया जा रहा है कि छात्रा कॉलेज की फीस नहीं भर पा रही थी।
जानकारी के मुताबिक, मानपुर रोड पर स्थित प्रभु विहार कॉलोनी में सुरेंद्र कौर का परिवार रहता है। सुरेंद्र कौर के पति सतपाल सिंह की मृत्यु 10 साल पहले हो चुकी है। ऐसे में सुरेंद्र कौर ने अपनी दोनों बेटियों की परवरिश की। बड़ी बेटी प्रीति का विवाह कपिल सक्सेना से करवा दिया और वो भी प्रभु विहार वहीं, उनकी छोटी बेटी निशा देहरादून के एक कॉलेज से बीटेक (प्रथम वर्ष) कर रही थी। इन दिनों उसकी ऑनलाइन क्लास चल रही थी। इस वजह से वो घर से ही पढ़ाई कर रही थी। कटोराताल पुलिस चौकी इंचार्ज नवीन बुधानी ने बताया कि परिजनों से पूछताछ में पता चला कि पिछले लॉकडाउन में आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से निशा कॉलेज की फीस नहीं दे पाई थी। इधर, कॉलेज वाले फीस के लिए दबाव बना रहे थे। बीती रात मां और बेटी के बीच फीस को लेकर कुछ बात हुई थी। कॉलोनी में पड़ोस में ही रह रही थी। पति की मृत्यु के बाद सुरेंद्र कौर रोडवेज बस स्टैंड के पास मोहल्ला पटेलनगर में एक ढाबा चलाकर परिवार का गुजर-बसर करती है। निशा की मां ने बताया कि रोज की तरह निशा रात को खाना खाने के बाद अपने कमरे में सोने चली गई थी। शनिवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे जब कमरा बाहर से खटखटाया तो दरवाजा नहीं खुला। जब दरवाजे को जोर से धक्का दिया तो अंदर लगी चिटकनी खुल गई। जहां कमरे में निशा का शव दुपट्टे से पंखे में लटका हुआ मिला। जिसे देख मां सुरेंद्र कौर बदहवास हो गईं। निशा की मां ने कुछ दूरी पर रहने वाले अपने दामाद कपिल सक्सेना को फोन किया और घटना की जानकारी दी। पड़ोस के लोग भी चीख-पुकार सुनकर मौके पर पहुंचे और शव को पंखे से नीचे उतारा। साथ ही इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने निशा के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।

Related Articles

Close