उत्तराखंडनशा का कारोबार

हौसले बुलंद गांधी जयंती के दिन भी खोला शराब का ठेका

गरुड़ चट्टी में पकड़े जाने पर सरकारी कर्मचारियों के साथ बहस

आबकारी विभाग की टीम ने ठेका किया सील
ऋषिकेश, 03 अक्टूबर। स्वर्गाश्रम जोंक क्षेत्र अंतर्गत गरुड़चट्टी के पास गांधी जयंती के दिन भी शराब माफिया ठेका खोल कर बैठे रहे। जानकारी मिलने पर राजस्व उपनिरीक्षक मौके पर पहुंचे तो शराब माफियाओं ने बहस करनी शुरू कर दी। मामला बड़ा तो आबकारी विभाग की टीम ने ठेके को सील कर दिया।
शनिवार को गांधी जयंती के दिन गरुड़ चट्टी के पास शराब का ठेका छुट्टी होने के बावजूद सारे दिन खुला रहा। करीब तीन बजे के आसपास राजस्व उपनिरीक्षक बृजभूषण बुमराण ने सूचना मिलते ही ठेके पर छापेमारी कर दी। उन्होंने शराब का ठेका खोलने पर कर्मचारियों को फटकार लगाई। जिससे कर्मचारी भड़क गए। उन्होंने दबंगई दिखाते हुए राजस्व उपनिरीक्षक के कर्मचारियों के साथ बहस करनी शुरू कर दी। समझाने पर शराब माफिया बाहुबली की तरह लड़ने से भी पीछे हटते दिखाई नहीं दिए। मामला बढ़ा तो यह खबर जंगल में लगी आग की तरह फैल गई। कुछ ही देर में आसपास के ग्रामीण भी मौके पर एकत्रित हो गए। गलती होने के बावजूद दबंगई दिखा रहे शराब माफियाओं को सबक सिखाने के लिए इस दौरान आबकारी विभाग की टीम भी पहुंच गई। कार्रवाई करते हुए आबकारी विभाग ने कर्मचारियों को बाहर निकाल ठेके को सील कर दिया। चेतावनी दी यदि सील के साथ छेड़खानी करने की कोशिश की गई तो उनके खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर जेल की हवा खिलाई जाएगी। राजस्व उपनिरीक्षक बृज भूषण ने बताया कि गांधी जयंती के दिन सरकारी छुट्टी होती है। इस दिन शराब की दुकानें भी बंद रहती हैं। बावजूद इसके शराब का ठेका खोलना पहली गलती है। गलती को स्वीकारने की जगह सरकारी कर्मचारियों के साथ बहस करना दूसरी गलती है। ऐसे में ठेके को सील किया जाना अति आवश्यक था। आबकारी निरीक्षक आनंद सिंह चौहान ने बताया कि नियम विरुद्ध शराब का ठेका खोलने पर सील करने की कार्रवाई की गई है।

 

Related Articles

Close