मध्यप्रदेशरोजगार

शिवराज सरकार में अतिथि शिक्षकों की हालत बदहाल,ज्ञापन देकर शासन को बताया अपना हाल

केसली : 19 अक्टूबर। सागर जिले की तहसील केसली में आज अतिथि शिक्षकों ने हनुमान बाबा मंदिर में बैठक की जिसमे नवनियुक्त शिक्षको के आ जाने से बाहर हुए अतिथि शिक्षकों के बारे में मंथन हुआ साथ ही शासन के इस निर्णय की अतिथि शिक्षको के विरोध में अतिथि शिक्षकों ने राज्यपाल के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा जिसमें अतिथि शिक्षकों ने बताया कि हम 10सो साल से मजदूरों से कम वेतन में सरकारी स्कूलों में सेवाए दे रहे है और हम आर टी ई के हर माप दंड पूरा करते है और अनुभव धारी हैं ओर सरकारी स्कूलों के बच्चो के बीच हमारी पकड़ है तथा 10 सो सालो से हम चपरासी से लेकर स्कूल के सभी कार्य बड़ी बखूबी से कर रहे है फिर भी शासन ने नवनियुक्त शिक्षको की भर्ती कर हमे बिना सूचना के सेवा मुक्त कर दिया ।

ऐसे में हमारे परिवार पर भरण पोसन का संकट गहरा गया है, हमें मासाब होते हुए भी सब्जी बेचने,मजदूरी करने,पंचर सुधारने जैसे काम करके अपना परिवार चलाना पड़ रहा है, ऐसे में अतिथि शिक्षक परेशान है और उन्होंने शासन से मांग की कि हमें कोई पॉलिसी बनाकर नियमित किया जाए अगर शासन हमारी मांगे पूरी नहीं करता तो हम आंदोलन को मजबूर होंगे साथ ही हम पब्लिक के बीच जाकर हमारे बच्चो जिनको पढ़ाया है उनके बीच जाकर शासन की नीतियों को बताएंगे।

भरत अहिरवार अतिथि शिक्षक ने कहा कि हमने 10 सत्र सरकारी स्कूल में पढ़ाया उसके बाद मुझे बाहर कर दिया जिससे हमारा भविष्य अंधकार मय होगा ओर हम सब्जी बेचकर,मजदूरी करके अपना परिवार चला रहे है।

तेजबल सिंह राजपूत बताया कि अतिथि शिक्षक आज दर दर भटक रहा है उसकी पीड़ा को सुनने वाला कोई माई बाप नहीं ।

ऐसे ही अमित तिवारी ने बताया कि आज अतिथि शिक्षक निस्सहाय अपमान भारी जिंदगी जी रहा है क्योंकि 10सो साल से जो मासाब कहलाता था आज वही मासाब रोजगार के लिए दर दर भटक रहा है।
अतः उन्होंने शासन से मांग की कि हमें भले चाहे वेतन उतनी ही दो जो आज दे रहे है पर मामा हमारा भविष्य सुरक्षित कर हमे एक सम्मान की जिंदगी दे ।

Related Articles

Close