अपराधउत्तराखंड

बैंक के अंदर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

एसओजी देहात व ऋषिकेश पुलिस ने दबोचे 2 ठग

ऋषिकेश। देहरादून रोड स्थित यूनियन बैंक में तीन दिन पहले एक व्यापारी के कर्मचारी से 30 हजार रुपये की टप्पेबाजी करने के तीन आरोपित पुलिस के हत्थे चढ़े हैं। आरोपितों ने बताया कि वे बच्चों और बूढ़ों को अपना शिकार बनाते थे। उन्हें झांसे में लेकर वे नगदी पर हाथ साफ कर उन्हें कागज के नोटों की गड्डी थमा देते थे।
दरअसल, कोतवाली ऋषिकेश में शिकायतकर्ता शिवा पुत्र स्वर्गीय वीरेंद्र ठाकुर निवासी सुभाष नगर बनखंडी ऋषिकेश ने एक प्रार्थना पत्र दिया, जिसमें उन्होंने बताया कि 20 नवंबर 2021 को वे बैंक में पैसा जमा करवाने गए थे, जहां अज्ञात व्यक्तियों ने बातों में उलझाकर रुमाल के अंदर कागज की गड्डी थमा दी और तीस हजार रुपये लेकर फरार हो गए। इस मामले में एसओजी ग्रामीण और कोतवाली पुलिस की संयुक्त टीम ने आरोपितों की तलाश शुरू की।
जिस क्रम में मंगलवार देर शाम मुखबिर की सूचना पर बैंक में ठगी करने वाले तीन शातिरों को गोपालनगर के पास बस अड्डा के पीछे से धर दबोचा गया। आरोपितों के पास से ठगी करने के लिए प्रयोग में लाई जाने वाली कागज की दो गड्डी और नकद 22,000 रुपये, वादी का आधार कार्ड, एटीएम कार्ड और बैंक स्टेटमेंट बरामद हुए।
गिरफ्तार किए गए आरोपितों में शिव कुमार पुत्र रनछोड़ भाई निवासी गुजरात, हाल निवासी-रुड़की, सुरेंद्र कुमार पुत्र रंजीत कुमार निवासी रुड़की, सोमनाथ पुत्र हुकम सिंह निवासी सहारनपुर, हाल निवासी रुड़की शामिल हैं। शिव कुमार पहले भी ऐसे ही एक कृत्य में जेल जा चुका है ।
आरोपियों को पकड़ने वाली पुलिस में प्रभारी निरीक्षक कोतवाली ऋषिकेश महेश जोशी, वरिष्ठ उप निरीक्षक कोतवाली ऋषिकेश डीपी काला, उपनिरीक्षक अरुण त्यागी, कांस्टेबल सचिन सैनी, कांस्टेबल संदीप छाबड़ी, कांस्टेबल अनित कुमार, कांस्टेबल लाखन सिंह, ओमकांत भूषण (प्रभारी एसओजी देहात), कांस्टेबल कमल जोशी, कांस्टेबल नवनीत नेगी, कांस्टेबल सोनी कुमार मौजूद थे।

Related Articles

Close