उत्तराखंडकोविड-19

दून के फारेस्ट रिसर्च संस्थान में फिर फूटा कोरोना बम एक साथ 11 आईएफएस अधिकारी मिले पॉजिटिव

सभी अधिकारी आइसोलेट

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है। कोरोना के कम होते मामलों के बीच 11 आईएफएस अधिकारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। आईएफएस अधिकारियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उत्तराखंड के स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है।
पॉजिटिव पाये गये सभी अधिकारी एफआरआई में मिड टर्म ट्रेनिंग के लिए आए हैं। सभी संक्रमित आईएफएस अधिकारियों को आइसोलेट कर दिया गया है। बता दें प्रदेश में कोरोना का सबसे पहले मामला भी एफआरआई से ही सामने आया था। तब भी यहां ट्रेनिंग कर रहे आईएफएस अफसरों में कोरोना की पुष्टि हुई थी। अब कोरोना के कम होते मामलों के बीच एक बार फिर से एफआरआई में कोरोना के मामले सामने आये हैं। जिससे सभी की चिंताएं बढ़ गई हैं।

मार्च में सील हुआ था एफआरआई
राष्ट्रीय वन अनुसंधान संस्थान में प्रशिक्षु अधिकारी को विदेश की ट्रेनिंग से लौटने पर कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। वहीं, संक्रमित अफसर के संपर्क में आने वाले दो अन्य ट्रेनी अधिकारियों को भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। ऐसे में तीन केस सामने आने के बाद सरकार ने 19 मार्च 2020 में 1200 एकड़ से फैले एफआरआई परिसर को कुछ दिनों के लिए सील कर दिया था। संस्थान पूरी तरह सील होने के बाद ढाई हजार से अधिक कर्मचारी, अधिकारी और 1600 फैमिली क्वॉर्टर में रहने वाले परिवार एफआरआई के अंदर फंस गए थे।

उत्तराखंड में कोरोना के आंकड़े
प्रदेश में अभी तक कोरोना के कुल 3,44,148 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 3,30,401 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। रिकवरी रेट 96.01 प्रतिशत है। प्रदेश में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 7,407 पहुंच गया है। ऐसे में डेथ रेट 2.15 प्रतिशत है।

Related Articles

Close