उत्तराखंडराशिफल

2022 में भाजपा या कांग्रेस की बनेगी सरकार को लेकर आचार्य चंडी प्रसाद घिल्डियाल की बड़ी भविष्यवाणी

ऋषिकेश, 06 फरवरी। उत्तराखंड चुनावी तापमान चरम पर
पहुंच चुका है ऐसे में यह चुनावी साल किसके हक में जाएगा इसको लेकर लोगों में काफी चर्चा चल रही है
इन चर्चाओं के बीच उत्तराखंड ज्योतिष रत्न आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल का बहुप्रतीक्षित भविष्यवाणी का बड़ा बयान आया है जिसमें उन्होंने लोकतंत्र की मजबूती के लिए लोगों से बढ़-चढ़कर मतदान में भाग लेने की अपील करने के साथ-साथ उत्तराखंड में भावी राजनीति के लिए महत्वपूर्ण भविष्यवाणी की है
ज्योतिष में बड़े हस्ताक्षर आचार्य चंडी प्रसाद घिल्डियाल
यह नाम विगत कुछ समय से ज्योतिषीय गणनाओं के माध्यम से भविष्यवाणी करने की दिशा में बेहद चर्चाओं में है। डॉक्टर घिल्डियाल द्वारा पिछले कुछ वर्षों में की गई सभी तरह की भविष्यवाणीयां बेहद सटीक साबित हुई है जिनमें वर्ष 2019 में जब तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी को लेकर राजनीतिक उठापटक चल रही थी कि उत्तराखंड में मुख्यमंत्री बदला जाएगा तो उनका बयान तत्काल आया था कि भारतीय जनता पार्टी में रहेगी उठापटक परंतु गजकेसरी योग होने से त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी पर कोई फर्क फिलहाल नहीं पड़ेगा और सचमुच पूरी राजनीतिक घेराबंदी के बावजूद त्रिवेंद्र सिंह रावत अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे और इसके बाद उन्होंने 4 साल का समय पूरा किया। इस बीच तीरथ सिंह रावत आचार्य चंडी प्रसाद के संपर्क में आए और मुख्यमंत्री बने परंतु उनके मुख्यमंत्री बनते ही डॉक्टर घिल्डियाल का बयान आया कि मुख्यमंत्री अपने कुछ बयानों से विवादों में घिर जाएंगे और सचमुच में फटी जींस और अन्य बयानों में गिरे और पुष्कर सिंह धामी को मौका मिला तो डॉक्टर घिल्डियाल ने कहा कि पुष्कर सिंह धामी की कार्यशैली की जनता में प्रशंसा होगी
वर्तमान समय में जबकि उत्तराखंड सहित देश के 5 राज्यों में चुनावी घमासान मचा हुआ है तो एक बार पुनः सबकी नजर उत्तराखंड रत्न डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल की भविष्यवाणी की तरफ गया है आज बसंत पंचमी सरस्वती पूजा के शुभ अवसर पर इस संदर्भ में संपर्क करने पर उन्होंने बताया कि

2022 के उत्तराखंड विधानसभा का जो चुनाव हो रहा है उत्तराखंड राज्य की कुंडली में बुद्धदेव की महादशा में शनि देव की अंतर्दशा चल रही है राज्य की कुंडली में शनि देव का वर्तमान गोचर इंगित करता है कि सत्ता पक्ष को भारी नुकसान होगा यद्यपि यह नहीं कहा जा सकता कि सत्ता पक्ष सत्ता की नजदीकी से एकदम बाहर हो जाएगा

मतदान 14 फरवरी के दिन मकर लग्न में होना है, मकर लग्न की कुंडली में लग्न में शनि देव एवं बुध देव विराजमान है,बुध देव छठे भाव के स्वामी हैं। जो शत्रु का घर कहलाता है और उस दिन सोमवार है सुबह 7:30 से 9:00 तक राहुकाल रहेगा इसलिए कई प्रकार के विवाद कोर्ट केस भी हो सकते हैं सरकार को बहुमत के आंकड़े के पास लाकर भी यह योग रोक सकने की ताकत रखता है। चुनाव के दिन मकर लग्न की इस कुंडली में देव गुरु बृहस्पति की दशा चल रही है जिसके अंतर्दशा में शनि देव और प्रत्यंतरदशा में मंगल देव है।देव गुरु बृहस्पति की अंतर्दशा में शनि देव है। मंगल देव के प्रत्यंतर में चुनाव होने से स्त्रियों और दलितों को फायदा मिल सकता है और स्पष्ट शब्दों में कहें तो मजबूत विपक्ष की भूमिका इस चुनाव में अवश्य तैयार होगी अर्थात कोई भी दल बहुत बड़े बहुमत से सरकार नहीं बना पाएगा पक्ष और विपक्ष में सीटों का अंतर काफी कम रहेगा इसलिए जो दल जनता के ज्यादा करीब रहेगा वह बुद्धि और चातुर्य से सरकार बनाएगा चुनाव में पहली बार किस्मत आजमा रहे दल और निर्दलीय मामूली सीटों को प्रभावित करेंगे परंतु जिन सीटों पर स्त्री जातक दलों से अलग होकर चुनाव लड़ रही है शनिदेव उन्हें अप्रत्याशित रूप से विजय भी दिला सकते हैं बड़े राजनीतिक लोगों का अभिमान मिट्टी में मिल सकता है
मुख्यमंत्री द्वारा ज्योतिष विभूषण ज्योतिष वैज्ञानिक जैसे बड़े सम्मान से सम्मानित आचार्य डॉक्टर चंडी प्रसाद घिल्डियाल बताते हैं कि मुख्यमंत्री पद के पक्ष विपक्ष के जो भी दावेदार हैं वे अपने-अपने क्षेत्रों में बुरी तरह से घिरे रहेंगे और बहुत कम अंतर से उनका हार जीत का फैसला होगा।

Related Articles

Close