उत्तराखंडप्रशासनिक खबरें

युक्रेन में फंसे हैं उत्तराखण्ड के 188 लोग, प्रदेश सरकार ने केन्द्र सरकार को सौंपी लिस्ट

डीजीपी बोलेः विदेश मंत्रालय कर रहा जरूरी कार्रवाई

सरकार के टोल फ्री नम्बर किया जारी
देहरादून। यूक्रेन में फंसे हजारों भारतीय छात्रों के सामने युद्धग्रस्त देश से सकुशल वापसी बड़ी चुनौती बनी हुई है। इसमें उत्तराखंड के कई छात्र-छात्राएं भी फंसे हुए हैं, जो वीडियो बनाकर मदद की गुहार लगा रहे हैं। वहीं सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखंड के 188 लोगों के यूक्रेन में फंसे होने की सूचना मिली है। हम विदेश मंत्रालय और भारत सरकार के साथ लगातार संपर्क में हैं। हमारे अधिकारी हमारे छात्रों को सुरक्षित निकालने के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि छात्रों के परिजनों को उनके बच्चों को सुरक्षित निकालने का आश्वासन दिया है।
वहीं, डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि विदेश मंत्रालय उन्हें सकुशल वापसी के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। साथ ही सरकार ने लोगों की सहूलियत के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं। डीजीपी ने बताया कि उत्तराखंड सरकार ने इस काम के लिए दो नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए हैं। इसके साथ ही टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं। डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि ऐसी जानकारी भी मिल रही है कि यूक्रेन में फंसे उत्तराखंडवासी वहां से रोमानिया और पोलैंड की तरफ निकल गए हैं।

भारत के 20 हजार से ज्यादा लोग फंसे हैं यूक्रेन में
यूक्रेन में भारत के 20 हजार से ज्यादा लोग फंसे हैं। इनमें छात्र और व्यवसासियों समेत वहां जॉब करने वाले लोग शामिल हैं। भारत सरकार ने भी यूक्रेन में फंसे अपने नागरिकों को निकालने की कोशिशें तेज कर दी हैं। एयर इंडिया के विमान ने रोमानिया के लिए उड़ान भरी है। एअर इंडिया का एक विमान रूस के आक्रमण के चलते यूक्रेन में फंसे भारतीयों को स्वदेश लाने के वास्ते रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट पहुंचा। उड़ान संख्या एआई 1943 ने तड़के करीब तीन बजकर 40 मिनट पर मुंबई हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी।
जो भी भारतीय नागरिक सड़क मार्ग से यूक्रेन-रोमानिया सीमा पर पहुंच गये हैं, उन्हें भारत सरकार के अधिकारी बुखारेस्ट ले जायेंगे ताकि उन्हें एअर इंडिया की उड़ानों के जरिए स्वदेश लाया जा सके। बता दें कि, एअर इंडिया यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाने के लिए बुखारेस्ट और हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट के लिए शनिवार को और उड़ानें संचालित करेगी।

युद्ध का आज तीसरा दिन
यूक्रेन पर रूस के हमले का आज तीसरा दिन है। शनिवार को राजधानी कीव समेत यूक्रेन के सभी अहम शहरों में धमाके हुए हैं। रूसी सैनिक राजधानी कीव में दाखिल हो गए हैं और यूक्रेनी सैनिकों से उनकी आमने-सामने की लड़ाई शुरू हो चुकी है। इस बीच यूक्रेन ने 300 रूसी पैराट्रूपर्स से भरे दो प्लेन मार गिराने का दावा किया है। रूसी सैनिकों ने कीव के एयरपोर्ट पर कब्जा कर लिया है।

भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया
इससे पहले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास किया गया। इस प्रस्ताव के पक्ष में 11 और विपक्ष में 1 वोट पड़ा। भारत, चीन और न्।म् ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया। हालांकि, रूस ने वीटो पावर का इस्तेमाल कर इस निंदा प्रस्ताव को खारिज कर दिया।

रूस व युक्रेन युद्ध चिंता का विषयः हरीश रावत
रूस के यूक्रेन हमले के तीसरे दिन पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देश को आश्वस्त करने की मांग की है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि यूक्रेन के साथ भारत की अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा जुड़ा हुआ है। वहीं यूक्रेन पर हमले के बाद भारत पर भी असर पड़ेगा। अर्थव्यवस्था और भारत और उत्तराखंड के यूक्रेन में फंसे छात्रों पर भारत सरकार बातचीत तो कर रही है, लेकिन उसके बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आश्वस्त करना चाहिए कि किस प्रकार भारत इन चुनौतियों से निपटेगा। क्योंकि रूस और यूक्रेन युद्ध के बाद एक बड़ी चिंता का विषय बना हुआ है।

यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के जिलेवार सूची
जनपद फंसे लोग
देहरादून 29
हरिद्वार 35
टिहरी 11
पौड़ी 19
चमोली 2
उत्तरकाशी 7
रुद्रप्रयाग 5
नैनीताल 24
उधम सिंह नगर 36
अल्मोड़ा 1
बागेश्वर 0
चंपावत 4
पिथौरागढ़ 1
अन्य 3
कुल 188

Related Articles

Close