अपराधउत्तराखंड

महिला ने लगाया एंबुलेंस संचालकों पर छेड़छाड़, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने का आरोप, पुलिस को तहरीर देकर की सख्त कार्रवाई की मांग

ऋषिकेश। देवभूमि कहीं जाने वाले तीर्थनगरी ऋषिकेश में महिलाओं के उत्पीड़न के मामले भी लगातार सामने आ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला एम्स ऋषिकेश से आया है। जहां एक महिला ने एंबुलेंस संचालकों पर छेड़छाड़, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस से आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

 

मिली जानकारी के अनुसार ऋषिकेश निवासी एक महिला ने कोतवाली पुलिस को लिखित तहरीर दर्ज कराई है। जिसमें महिला ने बताया कि देहरादून स्थित एक निजी अस्पताल के कर्मचारी विक्रम रावत, सुमित, राजन, शिवा उर्फ माफिया व मनीष सहित 25 से 30 अज्ञात लोगों ने एम्स परिसर में अकेला देखकर उसके साथ अश्लील हरकतें शुरू कर दी। उनके अंतर्वस्त्र में हाथ डालकर निजी अंगों को नोचा गया। महिला ने आरोप लगाते हुए कहा कि तीर्थनगरी जैसे पवित्र स्थल पर एम्स हॉस्पिटल में महिला की सुरक्षा कि यह दयनीय स्थिति है। जिसमें महिला बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि निजी अस्पताल के कर्मचारी विक्रम रावत ने उनके पेट पर लात मारी। क्योंकि यह लोग मरीजों को अपने हॉस्पिटल में सप्लाई कर लूटते हैं। इनके हॉस्पिटल में मरीज ले जाने से उनकी एंबुलेंस यूनियन द्वारा मना किया गया था। इस लूट के खिलाफ उनकी यूनियन हमेशा विरोध करती है। जिस कारण इन लोगों ने उन्हें जान से मारने की कोशिश की। लेकिन स्थानीय लोगों के कारण उनकी जान बच पाई। जिसको लेकर उक्त महिला ने उक्त लोगों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। वहीं महिला ने लिखित तहरीर के साथ मेडिकल रिपोर्ट भी संलग्न की है।

Related Articles

Close