उत्तराखंडजल संरक्षण

वित्त मंत्री प्रेमचंद्र अग्रवाल ने जलाशय की सुरक्षा के लिए लगाई जा रही फेंसिंग के निर्माण कार्य में गुणवत्ता की कमी पाये जाने पर यूजेवीएनएल के अधिकारियों को लगाई फटकार

ऋषिकेश । बैराज जलाशय की सुरक्षा के लिए लगाई जा रही फेंसिंग के निर्माण कार्य में गुणवत्ता की कमी पाये जाने पर कैबिनेट मंत्री व स्थानीय विधायक प्रेमचंद अग्रवाल ने मौके पर जाकर निर्माण कार्य रुकवाया। इस दौरान उन्होंने यूजेवीएनएल के मौके पर मौजूद अधिकारियों को फटकार भी लगाई।

शुक्रवार को वित्त, शहरी विकास एवं आवास विधायी एवं संसदीय कार्य, पुनर्गठन एवं जनगणना मंत्री प्रेमचन्द अग्रवाल ने बैराज स्थित आस्थापथ का निरीक्षण किया। इस मौके पर उन्होंने फेंसिंग के निर्माण के लिए उपयोग में लायी जा रही सामग्री जांची, जो घटिया स्तर की पाई गई। साथ ही मौके पर उखड़ भी गयी। यह देखकर मंत्री का पारा चढ़ गया। उन्होंने मौके पर यूजेवीएनएल के अधिशासी अभियंता ललित कुमार से इस संदर्भ में जवाब मांगा। जिसका वह सन्तोष जनक जवाब नहीं दे पाए।

अग्रवाल ने अधिशासी अभियंता ललित कुमार को फटकार लगाई। कहा कि आचार संहिता के दौरान निर्माण कार्य शुरू किया गया, जिसमें गुणवत्ता को नजरअंदाज करते हुए घटिया सामग्री लगाई गई, जिससे 97 लाख रुपए की धनराशि की बंदरबाट की जा सके।

अग्रवाल ने मौके से ही यूजेवीएनएल के एमडी संदीप सिंघल को फ़ोन से निर्माण कार्य रोकने के निर्देश दिए।

बता दे कि करीब 97 लाख रुपए की धनराशि से बैराज जलाशय की सुरक्षा के लिए 1.6 किलोमीटर तक फेंसिंग का कार्य किया जा रहा था। जिसके निर्माण कार्य में जनप्रतिनिधियों द्वारा लगातार गुणवत्ताविहीन निर्माण कार्य की शिकायत मिल रही थी। जिसका संज्ञान लेकर माननीय मंत्री अग्रवाल आज मौके पर पहुंचे और निर्माण कार्य रुकवाया।

इस मौके पर जूनियर इंजीनियर राजीव कुमार, प्रियंका नेगी, पूर्व दायित्वधारी सन्दीप गुप्ता, पूर्व सभासद अशोक पासवान, कविता शाह, संदीप खुराना, नरेंद्र रावत, अरुण बडोनी, रेखा सजवाण, पुष्पा नेगी, सौरभ गर्ग, विजय जुगरान आदि जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

Related Articles

Close