उत्तराखंडधर्म-कर्म

सार्वजनिक वाहनों से यात्रा करने वालों को धामो में प्राथमिकता देने की मांग

ऋषिकेश। संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति ने सार्वजनिक वाहनों से यात्रा करने वाले यात्रियों को धामों में दर्शन के लिए प्राथमिकता दिए जाने की मांग की। साथ ही चार धाम यात्रा के संचालन के लिए अलग से ढांचा तैयार करने की मांग की है।
गुरुवार को संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति के अध्यक्ष संजय शास्त्री ने इस संबंध में प्रेस वार्ता में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि चार धाम यात्रा उत्तराखंड में अर्थव्यवस्था का सबसे बड़ा स्रोत है। प्रतिवर्ष चारधाम यात्रियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। उन्होंने कहा कि संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति 50 वर्षों से अधिक समय से चार धाम यात्रा का संचालन कर रही है। बताया कि चार धाम यात्रा पर आने वाले अधिकांश श्रद्धालु ग्रामीण अंचलों से आते हैं, जो आर्थिक रूप से अधिक संपन्न नहीं होते। ऐसे में उन श्रद्धालुओं को सार्वजनिक परिवहन के तौर पर संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति यात्रा करवाती है।उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में बड़ी संख्या में श्रद्धालु अपने निजी वाहनों से चार धाम यात्रा करा रहे हैं, जिससे कम बजट, सीमित संसाधनों में यात्रा करने वाले आम श्रद्धालुओं को धामों में दर्शन के लिए परेशानी उठानी पड़ती है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष सरकार संवेदनशील ढंग से चार धाम यात्रा का संचालन कर रही है। ऐसे में सरकार को आम श्रद्धालुओं के साथ सीमित बजट में यात्रा करने वाले यात्रियों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है।

Related Articles

Close