उत्तराखंडशिक्षा

देवऋषि नारद पत्रकारिता के आदर्श थे: ऋतु खंडूड़ी

हरिद्वार। हरिद्वार में विश्व संवाद केंद्र द्वारा प्रेस क्लब के सभागार में अयोजित देवर्षि नारद जयंती समारोह का शुभारंभ मंगलवार को उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूडी भूषण ने विधिवत दीप प्रज्वलित कर किया| इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि नारद जी जिस तरह से तीनों लोकों में घूम घूमकर समाचारों का प्रचार प्रसार करते थे, उनके द्वारा प्रदत्त समाचार कई बार अप्रिय होते हुए भी लोक कल्याणकारी होते थे, वे पत्रकारिता का आदर्श थे| पत्रकारों के लिये आदर्श स्थिति यही है कि वे निष्पक्ष भाव से देवर्षि नारद की तरह अपनी भूमिका समाज के उत्थान के लिए तय करें|

प्रेस क्लब में आयोजित कार्यक्रम के दौरान विधानसभा अध्यक्ष का शॉल ओढ़ाकर एवं प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत एवं अभिनंदन किया गया| इस दौरान उपस्थित महानुभावों द्वारा उत्तराखंड की प्रथम महिला विधानसभा अध्यक्ष का गौरव प्राप्त होने पर ऋतु खंडूडी को शुभकामनाएं दी गई। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष द्वारा पत्रकारिता जगत में अपना विशिष्ट योगदान देने वाले पत्रकारों को प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।
विधानसभा अध्यक्ष ने नारद जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि नारद मुनि जी को सृष्टि का पहला संवाददाता कहा जाता है। जो अपना काम एक पत्रकार के रुप में पूरी लगन, ईमानदारी के साथ संपूर्ण करते थे।हमारे यहां जितने वेद और पुराण हैं उन सबमें नारद जी का योगदान है। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक देशों में विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका के कामकाज पर नजर रखने के लिए मीडिया को “चौथे स्तंभ” के रूप में जाना जाता है, मीडिया आज ऐसा विषय है जिसे कोई भी व्यक्ति नकार नहीं सकता, मीडिया सामान्य जन के जीवन का अविभाज्य अंग बन चुका है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि एक पत्रकार ही समाज को सही दिशा दिखाता है। लोगों की जन समस्याएं अपनी कलम द्वारा सामने लाकर उन्हें दूर करने में अपनी भूमिका बखूबी निभाता है।परंतु अब जब पत्रकारिता का क्षेत्र लगातार बदल रहा है, लोगों में बढ़ते तकनीकी ज्ञान के साथ-साथ पत्रकारिता का स्वरूप भी बदल रहा है।आज के इस ऑनलाइन युग में मात्र समाचार पत्र या टीवी ही पत्रकारिता के माध्यम नहीं हैं। सोशल मीडिया जिसमें व्हाट्सएप, फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम जैसे माध्यम से सेकंड भर में खबरें आमजन तक पहुंच रही है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उतराखण्ड में प्रतिभा और संसाधन की कमी नहीं, बस कमी थी जुनून की, लगन की। उतराखण्ड के युवा पत्रकारों का जोश और लगन देखकर लगता है कि आने वाले दौर में उतराखण्ड के युवा देश भर में पत्रकारिता को नया आयाम देंगे।
कार्यक्रम के दौरान मुख्य वक्ता उत्तर प्रदेश बाल संरक्षण आयोग के पूर्व अध्यक्ष व वरिष्ठ स्तम्भकार डॉ. विशेष गुप्ता ने कहा कि पत्रकारिता का उद्देश्य सच्ची खबर देना है। यही पत्रकार का धर्म है। पत्रकारिता देश हित के लिए होनी चाहिए। मीडिया सरकार व प्रशासन के बीच, प्रशासन व समाज के बीच तथा समाज व सरकार के बीच एक कड़ी का कार्य करे। किसी के खिलाफ व्यक्तिगत द्वेष भावना या ईर्ष्या एवं किसी के बहकावे में आकर तथा क्षणिक लाभ के लिए कोई समाचार प्रकाशित ना करें। जिससे किसी व्यक्ति के समाज में मान सम्मान पर असर पडें।
इस अवसर पर डॉ रजनीकांत शुक्ल ने कहा कि समाज में सकारात्मक बदलावों के लिए मीडिया के साथ ही जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों और स्वयं आमजन को भी प्रयास करने होंगे। इस अवसर पर ललितेंद्र नाथ, दीपशिखा, देवेश वशिष्ठ, अमित शर्मा, सुभांशु, अमित त्यागी, अजय शर्मा सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Related Articles

Close