उत्तराखंडनशा का कारोबार

तीन लाख की स्मैक के साथ बदायूं का तस्कर बागेश्वर में गिरफ्तार

बागेश्वर। पुलिस ने तीन लाख रुपये की स्मैक के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार किया है। उससे 50.99 ग्राम स्मैक सीज की गई है। वह स्कूली बच्चों को महंगे दामों पर बेचने के लिए नशा लेकर आ रहा था। आरोपी को अदालत में पेशी के बाद पुलिस ने न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।
चरस के बाद अब स्मैक का धंधा जिले में फलफूल रहा है। जिस पर एसओजी का प्रहार लगातार जारी है। एसओजी टीम को बीते देर शाम बड़ी कामयाबी मिली है। अब तक पकड़ी गई सबसे अधिक स्मैक की खेप के साथ 42 वर्षीय कमरूद्दीन गईल पुत्र तारूद्दीन, निवासी ग्राम- सरेली पुरप्ता, तहसील दातागंज, थाना उसहेत, जिला- बदायूं को गिरफ्तार किया है। कोतवाली में उसके विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट में मामला दर्ज किया गया है।एसपी अमित श्रीवास्तव के निर्देश पर सीओ अंकित कंडारी ने पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि नशा मुक्त अभियान के तहत एसओजी और कोतवाली पुलिस चेकिंग पर थी। बीते मंगलवार की देर शाम आरोपित को एआरटीओ कार्यालय से महज 100 मीटर आगे पकड़ा। पकड़ी गई स्मैक की अनुमानित कीमत लगभग तीन लाख रुपये है। आरोपित किसी के कहने पर यहां आया था। पुलिस उसकी भी जांच कर रही है। मुखबिर की सूचना सटीक निकली और जिले में अब तक पकड़ी गई सबसे अधिक स्मैक के साथ आरोपित को गिरफ्तार किया गया है। उससे पूछताछ चल रही है।संबंधित जिले में उसका अपराधिक रिकार्ड खंगाला जा रहा है।बीते मार्च माह से अब तक 11 चरस के मामले और दो स्मैक मामले कोतवाली में दर्ज हुए हैं। बदायूं का युवक वहां से एक हजार रुपये ग्राम के हिसाब से स्मैक लाया था। वह उसे आठ हजार रुपये ग्राम बेचने की फिराक में था। टीम में एसओजी प्रभारी कुंदन सिंह रौतेला, आरक्षी बसंत पंत, राजेश भट्ट, संतोष सिंह, रमेश सिंह, नरेंद्र गिरी, तारा सिंह भाकुनी शामिल थे।

Related Articles

Close