उत्तराखंडपर्यटन

कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने उत्तराखंड मेट्रो रेल, शहरी अवस्थापना एवं भवन निर्माण निगम लिमिटेड की समीक्षा बैठक की

कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने उत्तराखंड मेट्रो रेल, शहरी अवस्थापना एवं भवन निर्माण निगम लिमिटेड की समीक्षा बैठक की। बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय में हुई बैठक में अग्रवाल ने एमडी उत्तराखंड मेट्रो जितेंद्र त्यागी से परियोजना की वर्तमान अद्यतन स्थिति जानी। एमडी ने श्री अग्रवाल को बताया कि हरिद्वार-ऋषिकेश में मेट्रो नियो परियोजना की डीपीआर तैयार हो चुकी है, इसमें 34 किमी के लंबाई में 20 स्टेशन बनाए जाने हैं। जिसकी लागत 2700 करोड़ रूपए होगी। बताया कि इस संबंध में कार्यवाही गतिमान है। एमडी ने बताया कि आईएसबीटी से गांधी पार्क तक 10 किमी तथा एफआरआई से रायपुर तक 13 किमी तक मेट्रो के लिए डीपीआर स्वीकृत होने के बाद भारत सरकार के इंस्टीट्यूट आफ अर्बन ट्रांसपोर्ट में कार्यवाही गतिमान है, बताया कि इसकी कुल लागत 1850 करोड़ रूपए है। इस पर श्री अग्रवाल ने छह माह के भीतर कार्यवाही को पूर्ण करने के बाद टेंडर प्रक्रिया को अमल में लाने के निर्देश दिए। अग्रवाल ने कहा कि हर की पौड़ी से चंडी देवी मंदिर रोपवे परियोजना में केंद्र से स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है। इसमें दो स्टेशन और 13 टावर बनाए जाने है। करीब 150 करोड़ रूपये की लागत से 2.3 किमी तक इस निर्माण किया जाना है। इसके लिए हरिद्वार में सिंचाई विभाग की जमीन तलाश के लिए भूमि तलाश की जा रही है। बताया कि इस मामले में विभागीय मंत्री श्री सतपाल महाराज जी से वार्ता की गई है। अग्रवाल ने कहा कि हरिद्वार शहर में हरिद्वार दर्शन के नाम से पॉड टैक्सी चलाई जानी है, इसकी भी डीपीआर तैयार हो चुकी है, बताया कि 04 कॉरिडोर्स और 21 किमी की लंबाई वाले हरिद्वार दर्शन की लागत 1684 करोड़ है। बताया कि यह परियोजना अभी प्रस्तावित है। श्री अग्रवाल ने बताया कि ऋषिकेश से नीलकंठ महादेव मंदिर तक रोपवे परियोजना को बोर्ड की स्वीकृति मिल चुकी है, इसे आगामी कैबिनेट में लाया जाएगा। अग्रवाल ने कहा कि सभी परियोजनाओं के निर्माण से जहां एक ओर गुणवत्तापूर्ण, प्रदूषण मुक्त, वातानुकुलित एवं आरामदायक परिवहन सुविधा प्राप्त होगी, वहीं दूसरी ओर वर्तमान सड़क पर परिवहन एवं भीड़ कम करने में सहयोगी होगी। इससे यातायात का दबाव भी कम होगा। इन परियोजनाओं से यात्रियों एवं पर्यटकों को सुरक्षित यात्रा एवं समय की बचत होगी। इससे राज्य में पर्यटकों की आमद बढ़ेगी और राजस्व में वृद्धि होगी। अग्रवाल ने बताया कि मेट्रो नियो के निर्माण में राज्य के युवाओं के लिए रोजगार के साधन भी पैदा होंगे और पर्यटकों की संख्या में इजाफा होगा।

Related Articles

Close