उत्तराखंडशहीद

उत्तराखण्ड राष्ट्र की सुरक्षा के लिए अत्यन्त संवेदनशील एवं महत्वपूर्णः उनियाल

पुलिस शहीद स्मृति दिवस का किया आयोजन

पुलिस बहुत चुनौतियों का कर रही सामना
देहरादून। पुलिस शहीद स्मृति दिवस के अवसर पर पुलिस लाईन में स्थित शहीद स्मारक स्थल पर श्रृद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रुप में मंत्री सुबोध उनियाल, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायकगण खजान दास, बृज भूषण गैरोला, सविता कपूर, अपर मुख्य सचिव गृह राधा रतूड़ी, अपर मुख्य सचिवमनीषा पंवार, आनन्द बर्द्धन, विभिन्न आयोगों के अध्यक्ष एवं सदस्य गण, सेवानिवृत्त पुलिस महानिदेशक अनिल के. रतूड़ी, अपर पुलिस महानिदेशक, सीआइडी व पीएसी पीवीके प्रसाद, अपर पुलिस महानिदेशक, प्रशासन अभिनव कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक, पुलिस दूरसंचार अमित सिन्हा, समस्त पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस उपमहानिरीक्षक सहित अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एवं गणमान्य महानुभाव भी उपस्थित रहे और शहीद हुए पुलिस कर्मियों को याद कर उन्हे भावभीनी श्रृद्धांजलि अर्पित की गयी। कार्यक्रम का संचालन फायरमैन मनीष पंत एवं महिला आरक्षी सोनिया जोशी ने किया।
प्रधानमंत्री के उत्तराखण्ड भ्रमण कार्यक्रम में व्यस्तता के कारण मुख्यमंत्री श्रृद्धांजलि कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो पाए। उनके स्थान पर मंत्री सुबोध उनियाल ने श्रृद्धांजलि कार्यक्रम में प्रतिभाग किया
उद्धबोधन में उनियान ने कहा कि आज का दिन हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, वैसे तो हर वर्ष मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम को संबोधित किया जाता है किंतु मुख्यमंत्री का प्रधानमंत्री के उत्तराखण्ड भ्रमण कार्यक्रम में व्यस्तता के कारण कार्यक्रम को संबोधित करने का अवसर आज मुझे प्राप्त हुआ है। यह मेरे लिये गर्व की बात है। इस अवसर पर इन वीर शहीदों के परिजनों के प्रति भी अपनी हार्दिक संवेदनायें व्यक्त करता हूँ।
उत्तराखण्ड राज्य की सीमायें नेपाल, चीन से मिलती है। अतः उत्तराखण्ड भौगोलिक एवं सामरिक महत्व के दृष्टिगत राष्ट्र की सुरक्षा के लिए अत्यन्त संवेदनशील एवं महत्वपूर्ण है। राज्य के विकास में उत्तराखण्ड पुलिस का महत्तवपूर्ण योगदान है तथा  उत्तराखण्ड पुलिस अपने नारा मित्रता, सेवा, सुरक्षा के मूल्यों की भावना के अनुरुप कार्य करते हुए अपराध एवं कानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिए बहुत चुनौतियों का सामना कर रही है, जिनमें नशा, साइबर क्राईम, महिला अपराध, यातायात व्यवस्था, चारधाम यात्रा, आपदा, भूस्खलन, कॉवड यात्रा आदि हैं। प्रशंसनीय है कि उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा इस बार भी चारधाम यात्रा व कॉवड यात्रा को सकुशल सम्पन्न कराया गया। इसी प्रकार मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि उत्तराखण्ड पुलिस अपनी उपलब्ध जनशक्ति एवं संसाधनों से सभी चुनौतियों का सामना करने में सफल होगी।
पुलिस कर्मी वर्दीधारी संगठन में होने के कारण अनुशासन में बंधे रहते हैं। कठोर एंव विपरीत परिस्थितियों में चुनौतीपूर्ण कार्याे का निवर्हन करते हैं। प्रदेश के विकास एवं शान्ति व्यवस्था व कानून व्यवस्था बनाये रखने में राज्य पुलिस बल की सराहनीय भूमिका है। हमारी सरकार पुलिस कर्मियों को अपने दायित्यों का निर्वहन करने हेतु उनकी कल्याणकारी योजनाओं व सुविधाओं पर विशेष ध्यान रख रही है।स्मृति दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि महोदय द्वारा शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारजनों को शॉल प्रदान कर सम्मानित किया गया।

Related Articles

Close