उद्योग धंधेहरियाणा

स्पेशल मेघा स्टोरी -रेल कोच फैक्ट्री गन्नौर सोनीपत की तस्वीर और तकदीर बदलेगी: सांसद कौशिक

गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल की उपस्थिति में एचएसआईआईडीसी बड़ी स्थित रेल कोच नवीनीकरण कारखाना किया लोकार्पित

-फरीदाबाद में जन उत्थान रैली में वर्चुअल रूप में किये लोकार्पण पर सांसद व विधायक ने दी बधाई

-सांसद रमेश कौशिक ने नारियल तोडक़र नवीनीकृत कोच को दिखाई हरी झंडी

-590 करोड़ से 161 एकड़ में स्थापित कारखाने में वंदे भारत ट्रेन का होगा नवीनीकरण: सांसद

– गन्नौर में 500 बिस्तरों का अस्पताल स्थापित करवाते हुए सोनीपत को दिलायेंगे रैपिड ट्रेन की सौगात

– रेल कोच कारखाना का तोहफा मिला दिवाली ऐतिहासिक बनी: विधायक निर्मल चौधरी

नरेंद्र शर्मा परवाना / अजीत कुमार

सोनीपत/ गन्नौर सोनीपत के सांसद रमेश चंद्र कौशिक ने कहा कि रेल कोच फैक्ट्री गन्नौर सोनीपत और हरियाणा की तस्वीर और तकदीर बदल देगी। रोजगार बढेंगे, सुविधा बढेगी, राजस्व बढ़ेगा इसके साथ मेक इन इंडिया को धरातल पर हकीकत में बदलते देखेंगे। यह मेरे जीवन ड्रीम प्रोजेक्ट और भारत का मेघा प्रोजेक्ट आज जनता को समर्पित हुआ है।
भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल की उपस्थिति में एचएसआईआईडीसी बड़ी (गन्नौर, जिला सोनीपत) में रेल कोच नवीनीकरण कारखाना गुरुवार को देश के लिए समर्पित किया है। फरीदाबाद की जन उत्थान रैली के दौरान किये गये रेल कोच नवीनीकरण कारखाना के लोकार्पण समारोह का कारखाना परिसर में सीधा प्रसारण किया गया, यहां सांसद रमेश कौशिक ने नारियल तोडक़र नवीनीकृत कोच को हरी झंडी दिखाई।
सुनो बनारस या गुजरात नहीं गया यह प्रोजैक्ट गन्नौर में ही है
सोनीपत के सांसद रमेश चंद्र कौशिक ने कहा हमारे लिए इससे बड़े सौभाग्य का दिन है। हरियाणा के लिए सोनीपत के लिए और देश के लिए यह परियोजना तैयार हुई है। इसका उद्घाटन हो गया, यह अपने आप में मेघा प्रोजेक्ट है, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका शिलान्यास किया था और गुरुवार को भारत के गृहमंत्री अमित शाह ने इसका उद्घाटन किया है। यह मेरे लिए तो बहुत बड़ा सपना था जो पूरा हुआ है क्योंकि मैं 2014 से मेंबर ऑफ पार्लिमेंट बना हूं। उसी समय समय इस काम में लगा था। हमें इसमें सफलता मिली है। विपक्ष के नेता बोलते थे कि यहां पर कुछ नहीं होगा। कोई कहता था यह प्रोजेक्ट गुजरात चला गया है। कोई कहता था कि बनारस चला गया है। मैं आज सभी को बताना चाहता हूं कि यह प्रोजेक्ट शानदार प्रोजेक्ट है यहीं पर है।
प्रोजेक्ट मारुति से 10 गुना बड़ा, 80 से ज्यादा यूनिट यहां पर लगेंगी
सांसद कौशिक ने कहा कि देश की सबसे बेहतरीन ट्रेन वंदे भारत है। उसके कोच यहां गन्नौर की रेल कोच फैक्ट्री में हाई क्वालिटी के बनेंगे। ट्रेन 160 से 170 की स्पीड से जाएगी आप समझ सकते हैं कि उसमें किस प्रकार के मेटल की जरूरत होती है किसी को भी किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी रेल कोच फैक्ट्री 160 एकड़ से ज्यादा में बनी हुई है और इसमें अभी तक 590 करोड के लगभग खर्च आ चुका है अभी यह खर्चा और बढ़ने वाला है क्योंकि यहां पर और काम होने बाकी हैं जो समय समय पर होते रहेंगे। आने वाले समय में यहां पर रेलवे का ट्रेनिंग सेंटर भी बनेगा। इस संदर्भ में मेरी आलाकमान से बात हुई है। जैसे गुडगांव बनाया था ऐसे ही इस रेल कोच फैक्ट्री के आने से यहां पर रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। यह प्रोजेक्ट मारुति से 10 गुना बड़ा है यहां पर रेलवे ने जो बताया है कि 80 से ज्यादा यूनिट यहां पर लगेंगी।
विकास के नये आयाम स्थापित कर रहे हैं: विधायक निर्मल चौधरी
विशिष्ट अतिथि गन्नौर की विधायक निर्मल चौधरी ने कहा कि दीपावली के मौके पर रेल कोच नवीनीकरण कारखाना लोकार्पित किया जाना यह तोहफा मिलने दिवाली ऐतिहासिक बन गई है। प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रेल मंत्री, मुख्यमंत्री और सांसद रमेश कौशिक की सोच का परिणाम है। हमारे नेताओं की दूरदर्शी सोच है, जो विकास के नये आयाम स्थापित कर रहे हैं। उपायुक्त ललित सिवाच, एसडीएम सुरेंद्र सिंह दून, रेलवे के अधिकारी आरके संगार, आशीष शर्मा, अनिल कुमार, दीपक, भाजपा के जिलाध्यक्ष तीर्थ राणा, नगर पालिका गन्नौर के चेयरमैन अरूण त्यागी, पार्षद पुनीत त्यागी, राजेंद्र कौशिक, मनिंद्र सन्नी, हरिश मदान, मनोज कौशिक आदि उपस्थित रहे।
यह विशेषताएं है रेल कोच फैक्ट्री क्षेत्र की
एचएसआईआईडीसी बड़ी में 161 एकड़ भूमि पर करीब 590 करोड़ रुपये की लागत से रेल कोच नवीनीकरण कारखाना बना है। इसकी क्षमता प्रतिवर्ष 250 एलएचबी कोच की है। यहां 90 से अधिक अत्याधुनिक मशीनें लगाई हैं, परिसर में एडमिन ब्लॉक के साथ ट्रेनिंग सेंटर, कैंटिन, सिक्योरिटी ब्लॉक, टॉयलेट ब्लॉक, इलैक्ट्रिक सब-स्टेशन स्थापित किये गये हैं। फैक्टरी का कनेक्टेड इलैक्ट्रिक लोड सात हजार केवीए है। परिसर में 20 हजार से अधिक पेड़-पौधे लगाये गये हैं तथा पांच हजार सजावटी पौधे व 130 हजार वर्ग मीटर पर घास लगाई गई है। आवासीय परिसर में अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए 49 क्वार्टर बनाये गये हैं। फैक्टरी में विभिन्न शैड की छतों पर एक एमडब्ल्यू का सौर ऊर्जा संयंत्र लगाया गया है। नेटमिटरिंग व्यवस्था के बाद यह संंयंत्र इस कारखाने के एक एमवीडब्ल्यू के विद्युत भार को कम करने में सक्षम है।

 

Related Articles

Close