उत्तराखंड

ऋषिकेश का बॉडी बिल्डर बना दिल्ली का डिप्टी मेयर

दिल्ली के डिप्टी मेयर की कर्मभूमि रहा है ऋषिकेश
-शपथ ग्रहण समारोह के बाद देवभूमि पर मत्था टेकने और गंगा आरती करने पहुंचेंगे सुभाष भडाना
ऋषिकेश। साउथ दिल्लीबके डिप्टी मेयर बने सुभाष भडाना का ऋषिकेश से गहरा नाता रहा है। अहम पहलू ये है कि स्पोर्ट्स फील्ड से जुड़े सुभाष अब भी देवभूमि की माटी से खासा लगाव रखते हैं। एक खास बातचीत के दौरान उन्होंने तीर्थनगरी की यादें ताज़ा कीं और ख्वाहिश जाहिर की है कि डिप्टी मेयर पद के शपथ ग्रहण समारोह के बाद वे अपनी कर्मभूमि पर माथा टेकने आएंगे साथ ही मां गंगा की आरती में भी शिरकत करेंगे।

बताते चलें कि सुभाष भडाना बॉडी बिल्डिंग खेल में जाना पहचाना नाम हैं। 17 साल पहले पहले सुभाष भड़ाना ने ही उत्तराखंड बॉडी बिल्डिंग एसो.की कार्यकारिणी घोषित की थी। उन्होंने भी बॉडी बिल्डिंग का कम्पटीशन में गुरुकुल कांगड़ी हरिद्वार से भाग लेना शुरू किया जिसमें वह अव्वल आए थे। उसके बाद इंटर यूनिवर्सिटी बॉडीबिल्डिंग चैंपियनशिप में 10 साल तक लगातार खेलने के बाद आखिरी प्रतियोगिता भी हरिद्वार में खेली उसके बाद सन्यास ले लिया। इसके बाद वे जजिंग पैनल में शामिल हो गए। इतना ही नहीं सुभाष भडाना ने न सिर्फ उत्तराखंड बॉडीबिल्डिंग एसो. बनाने में सहयोग दिया बल्कि खेल प्रतिभाओं को संगठन के माध्यम से मजबूत मंच देने की पहल की। डिप्टी मेयर दक्षिण दिल्ली बनने की घोषणा के बाद उत्तराखंड बॉडीबिल्डिंग एसो. में भी उल्लास का माहौल है। उत्तराखंड बॉडीबिल्डिंग एसो. के अध्यक्ष और नेशनल जज राजीव थपलियाल का कहना सुभाष भडाना के डिप्टी मेयर बनने की घोषणा के बाद हमें भी महसूस होने लगा है कि दिल्ली में भी खेल से जुड़ा हमारा कोई शुभचिंतक मौजूद है जो हमारे सहयोग के लिए खड़ा है।

कोरोना काल में डटकर घर घर किया सेनिटाइज

…..।।।।।ऋषिकेश। स्पोर्ट्स स्प्रिट का सदुपयोग किया जाए तो समाज मे आमूलचूल परिवर्तन का जरिया बन सकता है। सुभाष भडाना ने कोरोना संक्रमण के शुरुआती दौर में लोगों को बचाने के लिए डटकर काम किया। जिस समय लोगों में संक्रमण के प्रति बेहद कम जानकारी थी उस दौरान उन्होंने इसका बीड़ा खुद उठाया और घर घर जाकर खुद सेनिटाइज करने की मुहिम छेड़ी। उनके इस चुपचाप मेहनत और समर्पण का शोर पीएमओ तक भी पहुँचा। इसी का नतीजा है कि पीएम मोदी की ओर से उन्हें डिप्टी मेयर की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बापुग्राम की व्यायामशाला को बजरंबली का आशीर्वाद
ऋषिकेश। खास बातचीत में सुभाष भडाना ने दिलचस्प राज खोले। उन्होंने बताया कि बापुग्राम स्थित व्यायामशाला में मैंने 1990 से 93 तक प्रेक्टिस की। वहां की माटी में भगवान बजरंबली का आशीर्वाद समाहित है। मेरा व्यक्तिगत मानना है कि जो भी वहां से जुड़ा उसने वैश्विक पटल तक ख्याति प्राप्त की। उनका कहना है कि 24 जून को शपथ ग्रहण के बाद जरूर व्यायामशाला की मिट्टी को माथे लगाने आऊंगा।


Notice: Trying to access array offset on value of type bool in /home/kelaitgy/aajkaaditya.in/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 320

Related Articles

Close