उत्तराखंड

कोरोना की मार, पत्रकारों में हाहाकार

उत्तराखंड के प्रतिष्ठा समाचार पत्रों ने की पत्रकारों की छटनी

 

प्रिंट मीडिया में फोटोजर्नलिस्ट भी हो जाएंगे विलुप्त!
– दैनिक जागरण ने अपने सभी फोटोग्राफरों की छंटनी की
– अमर उजाला ने देहरादून से कई पत्रकारों का तबादला किया
– हिन्दुस्तान ने ब्यूरो आफिस को कहा, न किराया देंगे और न कम्पयूटर

अभी सोकर ही उठा था कि दैनिक जागरण में लंबे समय से काम कर रहे एक फोटाग्राफर का फोन आया, कहा, कुछ नौकरी का जुगाड़ करें। मैंने पूछा कि क्या हुआ तो पता चला कि दैनिक जागरण ने कल बहुत सारे फोटोग्राफरों की नौकरी ले ली। जागरण इन फोटोग्राफरों को पांच हजार से सात हजार देता रहा है और प्रबंधन ने बचत और काॅस्ट कटिंग के नाम पर इनकी बलि ले ली। पंजाब केसरी देहरादून ने तो काॅस्ट कटिंग के नाम पर चपरासी की छंटनी कर दी। अमर उजाला देहरादून से अरुणेश पठानिया समेत कई पत्रकारों को तबादले के नाम पर ठिकाने लगा दिया गया है। क्योंकि कोविड के इस दौर मंें कौन भला कहां जाएगा? उधर, हिन्दुस्तान प्रबंधन ने अपने उत्तराखंड में अपने ब्यूरो कार्यालयों को कहा है कि प्रबंधन अब न तो आफिस का किराया देगा और न ही कंप्यूटर। कर लो रिपोर्टिंग। सीधी बात है कि कमाओ और खाओ। हमें भी कमा कर दो।
यह चिन्ताजनक बात है कि लोकतंत्र में लोक से

Related Articles

Close