उत्तराखंड

15 जुलाई से फिर से खुलेंगे चैरासी कुटिया के गेट

15 जुलाई से फिर से खुलेंगे चैरासी कुटिया के गेट

ऋषिकेष। लॉकडाउन के बाद से बंद चैरासी कुटिया 15 जुलाई से देशी-विदेशी पर्यटकों के लिए खुल जाएगी। चैरासी कुटिया को कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते लॉकडाउन के दौरान पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया था।
राजाजी टाईगर रिजर्व पार्क प्रशासन ने चैरासी कुटिया खोलने की तैयारियां शुरू कर दी है। स्वर्गाश्रम में चैरासी कुटिया की स्थापना 1756 में विश्व भावातीत ध्यान योग के प्रणेता महर्षि महेश योगी ने ध्यान, योग और साधन के उद्देश्य से स्थापित किया था। 1986 में कुटिया राजाजी नेशनल पार्क अंतर्गत आ जाने के बाद महर्षि महेश योगी ने इसे सरकार के सुपुर्द कर दिया था, इसके बाद वह हॉलैंड चले गए। चैरासी कुटिया में साल 1968 में उनके शिष्य रहे इंग्लैंड का मशहूर बीटल्स ग्रुप रहकर 47 गाने तैयार किए थे। जिन्हें आज भी विदेशी पर्यटक वाइट एलबम में सुनते हैं।
जिसके बाद चैरासी कुटिया विश्व पटल पर प्रसिद्ध हो गई। दिसंबर 2015 में चैरासी कुटिया को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया। गौहरी रेंजर धीर सिंह ने बताया की राजाजी टाईगर रिजर्व पार्क प्रशासन ने 15 जुलाई से पर्यटकों के लिए चैरासी कुटिया के गेट खोलने का निर्णय लिया है। अब पर्यटक यहां पर आ सकते हैं। बताया कि चैरासी कुटिया से पार्क प्रशासन को लाखों की आय भी होती है।

Related Articles

Close