उत्तराखंड

चिकित्सा व शिक्षा के क्षेत्र में भरत मंदिर परिवार ने निभाई अहम भूमिका

ब्रह्मलीन पीठाधीश्वर अशोक प्रपन्नाचार्य को दी श्रद्धांजलि

ऋषिकेश,11 जुलाई। सर्वहारा नगर काली के ढाल में समाज सेविका श्रीमती चंद्रकांता जोशी के द्वारा श्री भरत मंदिर के पीठाधीश्वर भगवान श्री भरत नारायण के प्रतिनिधि महंत अशोक प्रपन्नाचार्य शर्मा महाराज के निधन पर एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसमें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य जयेंद्र रमोला के द्वारा श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा गया कि ऋषिकेश शहर के सभी सरकारी संस्थाओं को बसाने का कार्य महंत के द्वारा किया गया साथ ही ऋषिकेश के चहुमुखी विकास और उत्तराखंड की प्रत्येक आपदा में बढ़-चढ़कर सहयोग किया गया ,इस अपूर्णीय क्षति को कभी पूर्ण नहीं किया जा सकता है ,कार्यकारी अध्यक्ष कांग्रेस शिव मोहन मिश्रा ने कहा कि महंत जी का स्वभाव ऐसा था कि कभी किसी भी व्यक्ति को जो भी उनके पास सहायता के लिए पहुंचा उसकी पूर्ण सहायता की गई और कोई भी उनके दर से खाली हाथ नहीं लौटा, हृदय की विशालता के कारण आज प्रत्येक व्यक्ति उनको याद कर रहा हूं ,श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज ऋषिकेश के अध्यापक रंजन अंथवाल ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान महंत के द्वारा श्री भरत मंदिर परिवार की ओर से पूरे ऋषिकेश क्षेत्र में राशन और जरूरतमन्द सामग्री प्रत्येक जरूरतमंद व्यक्ति को चंद्रभागा शीशम झाड़ी से लेकर रायवाला तक मदद पहुंचाई गई, जिसमें मैं स्वयं उपस्थित था इसके अतिरिक्त केदारनाथ आपदा, उत्तरकाशी आपदा, यमकेश्वर आपदा ,इन तीनों आपदाओं में महंत के द्वारा कई ट्रकों में भर भर कर भोज्य पदार्थ राशन और आवश्यक सामग्रियां प्रभावित लोगों तक पहुंचाई गई। टीम में प्रधानाचार्य मेजर गोविंद सिंह रावत के नेतृत्व में साथ साथ मैं भी पल-पल उपस्थित रहा मैंने भरत मंदिर परिवार के सहायता कार्यों को बहुत निकट से देखा है इसलिए एक महान शख्सियत के जाने का दुख मुझे व्यक्तिगत रूप से तो है ही साथ ही संपूर्ण ऋषिकेश वासियों में भी शोक की लहर है,
श्रीमती चंद्रकांता जोशी ने कहा कि महंत के द्वारा कई निर्धन कन्याओं का विवाह करवाया गया साथ ही गरीब लोगों की मदद के लिए जब भी बहन जी के पास गए तो उन्होंने सबकी मदद की, ऋषिकेश क्षेत्र में शिक्षा की अलख जगाने वाले भरत मंदिर परिवार का संपूर्ण ऋषिकेश सदैव ऋणी रहेगा, इस मौके पर श्रीमती विद्यावती ,रीना जोशी, बसंती ,आशा थपलियाल बाला देवी फूलमती, सर्मिष्ठा रेखा कश्यप स्वाति यादव रेशमा, सावित्री घिल्डियाल ,रेखा खेड़ा कैलाशी मल्ला आदि उपस्थित थे।

Related Articles

Close