उत्तराखंड

महिला मोर्चा हिंदू युवा वाहिनी महानगर अध्यक्ष राधा धोनी के नेतृत्व में हिन्दू युवा वाहिनी द्वारा मनाया गया हरेला पर्व

महिला मोर्चा हिंदू युवा वाहिनी महानगर अध्यक्ष राधा धोनी के नेतृत्व में हिन्दू युवा वाहिनी द्वारा मनाया गया हरेला पर्व

 

देहरादून, 16 जुलाई। हरेला पर्व एक हिंदू त्यौहार है जो मूल रूप से उत्तराखण्ड राज्य के कुमाऊँ क्षेत्र में मनाया जाता है । हरेला पर्व वैसे तो वर्ष में तीन बार आता है- चैत्र मास में – प्रथम दिन बोया जाता है तथा नवमी को काटा जाता है। भीजे श्रावण मास में – सावन लगने से नौ दिन पहले आषाढ़ में बोया जाता है और दस दिन बाद श्रावण के प्रथम दिन काटा जाता है।आश्विन मास में – आश्विन मास में नवरात्र के पहले दिन बोया जाता है और दशहरा के दिन काटा जाता है।
चैत्र व आश्विन मास में बोया जाने वाला हरेला मौसम के बदलाव के सूचक है।

चैत्र मास में बोया/काटा जाने वाला हरेला गर्मी के आने की सूचना देता है,

तो आश्विन मास की नवरात्रि में बोया जाने वाला हरेला सर्दी के आने की सूचना देता है।

लेकिन श्रावण मास में मनाये जाने वाला हरेला सामाजिक रूप से अपना विशेष महत्व रखता तथा समूचे कुमाऊँ में अति महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक माना जाता है। जिस कारण इस अन्चल में यह त्यौहार अधिक धूमधाम के साथ मनाया जाता है। महानगर अध्यक्ष जीतू रंधावा ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बताया जैसा कि हम सभी को विदित है कि श्रावण मास भगवान भोलेशंकर का प्रिय मास है, इसलिए हरेले के इस पर्व को कही कही हर-काली के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि श्रावण मास शंकर भगवान को विशेष प्रिय है। यह तो सर्वविदित ही है कि उत्तराखण्ड एक पहाड़ी प्रदेश है और पहाड़ों पर ही भगवान शंकर का वास माना जाता है। इसलिए भी उत्तराखण्ड में श्रावण मास में पड़ने वाले हरेला का अधिक महत्व है।

मौके पर उपस्थित महानगर अध्यक्ष जीतू रंधावा महिला मोर्चा महानगर अध्यक्ष राधा धोनी महिला मोर्चा महानगर उपाध्यक्ष मीनू दीदान पूनम महेश्वरी एवं दर्जनों कार्यकर्ता मौजूद रहे हिंदू युवा वाहिनी महानगर देहरादून उत्तराखंड।

Related Articles

Close