उत्तराखंडशहर में खास

“पालकी’ के लुटेरों को ‘बारात’ के रखवाली का जिम्मा!

गुर्जर परिवारों के विस्थापन का मामला:

👉1983 से आज तक सुलझ नहीं पाई विस्थापन की गुत्थी
👌अधिकारियों और भूमाफियाओं ने जमकर काटी मलाई
ऋषिकेश, 12अगस्त। पालकी के लुटेरों को ही बारात के सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंप दी जाए तो माजरा क्या होगा ये किसी से छुपा नहीं है। यही हालत वन विभाग के अफसरों की हो चुकी है। गुर्जर परिवारों को विस्थापन के नाम पर कई सालों से गोरखधंधा जारी है। हालत ये है कि जिन अफसरों पर पारदर्शी तरीके से भूमि आवंटन और मुआवजे की जिम्मेदारी है वही घपले की धुरी बन चुके हैं। यही वजह है कि गुर्जर परिवारों को विस्थापन की सूची वर्ष 1983 से अब तक फाइनल नहीं हो पाई है। पूर्व में जो सूची बनी वो फर्जीवाड़े का पुलिंदा से ज्यादा कुछ नहीं

Related Articles

Close