क्राइम

रायवाला प्रधान के जाति प्रमाण को डीएम ने दिए निरस्त करने के आदेश

जांच में सामान्य जाति का पाया गया, चुनाव लड़ने के लिए तहसील ऋषिकेश से बनाया फर्जी प्रमाण पत्र

 

ऋषिकेश, 22 सितंबर। डोईवाला विकासखंड की ग्राम पंचायत रायवाला के प्रधान का फर्जी दस्तावेजों की सहायता से चुनाव लड़ने का ताजा मामला सामने आया है। जिलाधिकारी देहरादून ने स्वयं इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने तहसील ऋषिकेश से जारी किए फर्जी प्रमाण पत्र को निरस्त करने के आदेश जारी किए हैं। साथ ही मामले में संलिप्त अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच के निर्देश दिए हैं।
जिलाधिकारी देहरादून आशीष श्रीवास्तव की ओर से जारी पत्र में बताया गया कि राम बहादुर निवासी रायवाला की ओर 31 दिसंबर 2019 को एक प्रार्थना पत्र दिया गया। इसमें उसने बताया कि विकासखंड डोईवाला ग्राम सभा रायवाला के पंचायत चुनाव में प्रधान पद के लिए आरक्षित सीट थी। इसमें प्रधान पद पर सागर गिरी ने प्रधान पद पर चुनाव लड़ा। अपने दस्तावेजों में उसने तहसील ऋषिकेश की ओर से जारी किए पिछड़ी जाति के प्रमाण पत्र को संलग्न किया। जबकि वास्तव में यह व्यक्ति पौड़ी गढ़वाल के यमकेश्वर ब्लाॅक ग्राम बड़काटल का मूल निवासी है और सामान्य जाति का है। मामल कीे जांच के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय जांच कमेटी गठित की गई। इसमें वह सामान्य जाति का पाया गया। जिस पर डीएम देहरादून ने एसडीएम ऋषिकेश को उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए। एसडीएम वरुण चौधरी ने बताया कि तहसीलदार कार्यालय से सागर गिरी के जति प्रमाण पत्र को निरस्त करने के आदेश निकाले जाएंगे। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Related Articles

Close