भ्रष्टाचार

बेनामी भूमि पर दबंग व्यापारी का अवैध निर्माण जारी, दबंगों की हनक की आगे प्रशासन हुआ नतमस्तक, मूकदर्शक बन देख रहा तमाशा

दबंगों की हनक की आगे प्रशासन हुआ नतमस्तक, मूकदर्शक बन देख रहा तमाशा

 

ऋषिकेश 06 अक्टूबर। तीर्थनगरी ऋषिकेश में बेनामी भूमि पर दबंग व्यापारी द्वारा धड़ल्ले से अवैध निर्माण किया जा रहा है। व्यापारी की हनक के आगे प्रशासन के नुमाइंदे नतमस्तक होकर तमाशा देख रहे हैं।
दरअसल, तीर्थनगरी के चंद्रेश्वर मार्ग, मायाकुंड में बेनामी भूमि पर दबंग व्यापारी द्वारा धड़ल्ले से अवैध निर्माण किया जा रहा है। व्यापारी की हनक प्रशासन पर इतनी हावी है कि निर्माण के पूरी तरह से अवैध होने के बावजूद भी प्रशासन के नुमाइंदे नतमस्तक और मूकदर्शक बनकर सिर्फ तमाशा देख रहे हैं। पूर्व में भी स्थानीय लोगों की शिकायत पर एनजीटी के आदेशानुसार ऋषिकेश के पूर्व उपजिलाधिकारी प्रेम लाल ने प्रशासन की टीम के साथ उक्त भूमि की बाउंड्री वॉल को ध्वस्त किया था। लेकिन मामला शांत होने के बाद दबंग व्यापारी सरदार जगजीत सिंह (जग्गा) ने निर्माण दोबारा शुरू कर दिया है। स्थानीय व्यापारियों की शिकायत पर बीती रात एमडीडीए की ओर से निर्माण करा रहे व्यापारी का चालान भी किया गया। इसके बावजूद भी निर्माण धड़ल्ले से जारी है।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

क्या कहते हैं जिम्मेदार:

मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण के अधिकारी सुधीर गुप्ता ने बताया कि बीते 05 अक्टूबर को स्थानीय लोगों की शिकायत पर चंद्रेश्वर मार्ग, मायाकुंड स्थित अवैध निर्माण पर कार्रवाई करते हुए सरदार जगजीत सिंह (जग्गा) का चालान किया गया था। साथ ही अग्रिम कार्रवाई तक निर्माण बंद किए जाने की चेतावनी भी दी गई। उन्होंने बताया कि जल्द ही मामले की पूर्ण जांच कर निर्माण अवैध पाए जाने पर सीलिंग की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

पूर्व में भी हो चुका है मुकदमे:

अवैध निर्माण करा रहे सरदार जगजीत सिंह (जग्गा) के खिलाफ पूर्व में भी कई मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। दरअसल, सरदार जगजीत सिंह अकाली दल का प्रदेश अध्यक्ष भी है। जिसके चलते जगजीत सिंह को राजनीतिक सपोर्ट मिली हुई है। इसी राजनीतिक सपोर्ट के चलते सरदार जगजीत सिंह अन्य व्यापारियों और प्रशासन के साथ दबंगई करता नजर आता है। इसी दबंग रवैया के चलते उसने आसपास के व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर भी कब्जा करना शुरू कर दिया है।

Related Articles

Close